Global Statistics

All countries
596,176,955
Confirmed
Updated on August 16, 2022 5:30 am
All countries
568,603,664
Recovered
Updated on August 16, 2022 5:30 am
All countries
6,456,951
Deaths
Updated on August 16, 2022 5:30 am

India Statistics

India
44,277,194
Confirmed
Updated on August 16, 2022 5:30 am
India
43,638,844
Recovered
Updated on August 16, 2022 5:30 am
India
527,098
Deaths
Updated on August 16, 2022 5:30 am
spot_img

नोएडा में 2 जगह रुकेगी दिल्ली-वाराणसी बुलेट ट्रेन, साढ़े तीन घंटे में पूरा होगा 800 किमी का सफर

दिल्ली-वाराणसी हाई स्पीड रेल कॉरिडोर बनाने का काम तेजी से जारी है. इसी रूट पर दिल्ली-वाराणसी बुलेट ट्रेन दौड़ेगी. यह पूरा स्ट्रेच 813 किलोमीटर का होगा जिसमें 13 स्टेशन होंगे. इन स्टेशनों में दिल्ली में एक अंडरग्राउंड और 12 एलिवेटेड स्टेशन उत्तर प्रदेश में होंगे. दिल्ली से चलकर वाराणसी तक चलने वाली बुलेट ट्रेन की स्पीड 330 किमी प्रति घंटा होगी. इस तरह लगभग 3 घंटे 33 मिनट में यह ट्रेन दिल्ली से वाराणसी पहुंचेगी. अंडरग्राउंड स्टेशन के लिए 15 किमी के सुरंग का निर्माण जारी है. अभी ट्रेन से दिल्ली से वाराणसी तक का सफर पूरा करने में 8-10 घंटे का समय लगता है. लेकिन भविष्य में यह आधे से भी कम हो जाएगा. इस दिशा में बुलेट ट्रेन का काम तेजी से जारी है.

दिल्ली-वाराणसी बुलेट ट्रेन मथुरा, आगरा, इटावा, कानपुर, लखनऊ, प्रयागराज होते हुए निकलेगी. दिल्ली से सटे गौतम बुद्धनगर जिले में बुलेट ट्रेन के दो स्टेशन होंगे. इसके निर्माण के लिए रेल मंत्रालय ने मंजूरी दे दी है.

नोएडा में बुलेट ट्रेन के दो स्टॉपेज

दिल्ली-वाराणसी बुलेट ट्रेन दिल्ली के सराय काले खां स्टेशन से रवाना होगी और पहला स्टॉपेज नोएडा सेक्टर-148 में होगा.
बुलेट ट्रेन का अगला स्टॉपेज नोएडा इंटरनेशनल एयरपोर्ट होगा. इस तरह सराय काले खां स्टेशन से नोएडा इंटरनेशनल एयरपोर्ट तक पहुंचने में बुलेट ट्रेन को 21 मिनट लगेगा.
एक रिपोर्ट के मुताबिक, नोएडा एयरपोर्ट लिमिटेड ने स्टॉपेज के लिए एक प्रस्ताव दिया था जिसे रेल मंत्रालय ने हरी झंडी दे दी है. अब यह तय है कि बुलेट ट्रेन नोएडा इंटरनेशनल एयरपोर्ट स्टेशन पर भी रुकेगी.
बुलेट ट्रेन के एलिवेटेड स्टेशन

हाई स्पीड रेल कॉरिडोर के पहले फेज का निर्माण कार्य जारी है. इसके लिए दिल्ली और नोएडा एयरपोर्ट के बीच एलिवेटेड ट्रैक का निर्माण कार्य जारी है. यह एलिवेटेड ट्रैक यमुना एक्सप्रेसवे के बराबर में बन रहा है. इसके लिए यमुना अथॉरिटी ने मुफ्त में जमीन दी है.

अभी तक की तैयारी के मुताबिक दिल्ली-वाराणसी बुलेट ट्रेन का प्रोजेक्ट साल 2029 तक पूरा होना है. लगभग 800 किमी के पूरे स्ट्रेच का निर्माण तीन फेज में पूरा किया जाना है. बुलेट ट्रेन को नोएडा एयरपोर्ट से जोड़ने का मकसद यही है कि फ्लाइट से आने-जाने वाले यात्री हाई स्पीड ट्रेन का लाभ ले सकें.

भारत में बुलेट ट्रेन प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का ड्रीम प्रोजेक्ट है. अहमदाबाद-मुंबई बुलेट ट्रेन कॉरिडोर का निर्माण कार्य भी तेजी से चल रहा है. गुजरात के कई हिस्सों में बड़े स्तर पर काम हो चुका है और इसमें लगातार तेजी देखी जा रही है. महाराष्ट्र में रेलवे ट्रैक के लिए जमीन आवंटन का मामला फंसा हुआ है जिससे इसमें देरी आ रही है.

Hot Topics

Related Articles