Global Statistics

All countries
651,900,459
Confirmed
Updated on December 8, 2022 10:47 pm
All countries
609,051,279
Recovered
Updated on December 8, 2022 10:47 pm
All countries
6,653,028
Deaths
Updated on December 8, 2022 10:47 pm

India Statistics

India
44,675,509
Confirmed
Updated on December 8, 2022 10:47 pm
India
44,139,299
Recovered
Updated on December 8, 2022 10:47 pm
India
530,647
Deaths
Updated on December 8, 2022 10:47 pm
spot_img

यूपी के इस स्टेशन से दिल्ली को जाने वाली हमसफर एक्सप्रेस अब नए नाम से चलेगी, बिहार के इस स्टेशन पर भी रुकेगी

बलिया से नई दिल्ली के बीच चलने वाली हमसफर एक्सप्रेस ट्रेन स्वतंत्रता सेनानी चित्तू पांडेय के नाम से चलेगी। इसका विस्तार आगे छपरा तक किया जाएगा। सुरेमनपुर और युसुफपुर में भी इसका ठहराव होगा। इसकी स्वीकृति रेल मंत्रालय द्वारा मिल चुकी है। यह जानकारी सांसद वीरेंद्र सिंह मस्त ने जागरण को दी है। इस बाबत संसदीय कार्यालय पर पत्रकारों से बातचीत में उन्होंने बताया कि एनएच-31 से एनएच-84 को जोड़ा जाएगा। इसके लिए सोनबरसा, दलनछपरा, महुली घाट के रास्ते आरा तक राष्ट्रीय राजमार्ग प्राधिकरण फोर लेन सड़क व पुल बनवाएगा।

इसका पूरा खर्च भारत सरकार के भूतल परिवहन मंत्रालय उठाएगा। इसकी स्वीकृति भी मिल गई है। सर्वे के लिए आदेश जारी हो चुका है। सांसद ने कहा कि बकुल्हा रेलवे स्टेशन अब जयप्रकाशनगर रोड के नाम से जाना जाएगा। राज्य सरकार के प्रस्ताव पर रेलवे ने अपनी सहमति प्रदान कर दी है। जल्द ही इस स्टेशन का नाम बदल जाएगा। उन्होंने कहा कि सोनबरसा मोड़ पर अमर सेनानी राधामोहन सिंह की प्रतिमा लगाने का कार्य चल रहा है। इसका अनावरण मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ करेंगे। सबकुछ ठीक रहा तो नवंबर में प्रतिमा का अनावरण हो जाएगा।

बलिया जिले से अब छपरा भी उम्‍मीद है क‍ि इस ट्रेन से आगे जुड़ जाएगा। माना जा रहा है कि बीते दिनों बलिया के आजादी के समर पर आयोजित कार्यक्रम में सीएम योगी आदित्‍यनाथ के शामिल होने के बाद स्वतंत्रता संग्राम सेनानी चित्तू पांडेय को लेकर सहमति बनी थी। इसके बाद सांसद की ओर से पहल करने के बाद ट्रेन को सेनानी का नाम मिला है। इस बाबत रेलवे की ओर से जानकारी दिए जाने के बाद से ही बलिया जिले में खुशी का माहौल है। अब बलिया जिले से लेकर नई दिल्‍ली और छपरा तक लोग छित्‍तू पांडेय के नाम से अवगत हो सकेंगे। इसी के साथ ही आजादी की समर गाथा में बलिया की पहचान भी शामिल हो सकेगी।

Hot Topics

Related Articles